Flash News

बेवसी (कविता) : कृष्णा

May 14, 2017

Bevasi size

कभी तो ज़िन्दगी थी मुस्कराहट
अब तो ज़िन्दगी है फरियाद
अब तो ज़िन्दगी है फरियाद.
किस किस की सामना करें हम ?
किस को अपना कहेंगे हम ?
हर रात को तो दिन रहे – पर
हम को अपना कोन है ?
चिंतावों की आग में
हर एक पल हम जल रहे.
राख की एक ढेर बनकर
रह गयी हर मंज़िलें – हाये
रह गयी हर मंज़िलें.
कब बहार फिर आएगी ?
पतझड की जान लहराएगी ?
सूनी-सूनी रातों में कब
नींद भी मुझे आएगी – कब
नींद मुझको पाएगी ?

Print This Post Print This Post
To toggle between English & Malayalam Press CTRL+g

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read More

Scroll to top