Flash News

वन नाइट स्टैंड हिन्दू कानूनों के हिसाब से विवाह नहीं: बंबई हाई कोर्ट

June 11, 2017

judge_hammer_1497149695_749x421किसी परुष और महिला के बीच शारीरिक संबंध या वन नाइट स्टैंड हिन्दु कानूनों के तहत विवाह की परिभाषा में नहीं आता. बंबई हाई कोर्ट ने हाल ही दिए एक महत्वपूर्ण आदेश में यह बात कही. हाईकोर्ट ने साथ ही कहा कि अगर उन दोनों ने शादी नहीं की है, तो ऐसे संबंधों से जन्में बच्चे को पिता की संपत्ति में कोई अधिकार नहीं होगा.

‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ में प्रकाशित खबर के मुताबिक, बंबई हाईकोर्ट के जज जस्टिस मृदुला भटकर ने कहा, ‘किसी संबंध को विवाह की मान्यता के लिए पारंपरिक या कानूनी औपचारिकताएं पूरी की जानी जरूरी हैं… किसी की इच्छा, इत्तेफाक या फिर अचानक में बने शारीरिक संबंध को शादी नहीं बताया जा सकता.’ जज ने कहा कि लिव इन रिलेशन और उससे जन्में बच्चे कानूनी जानकारों के लिए एक पेचीदा मुद्दा और चुनौती बन गए हैं.

हिन्दू विवाह अधीनियम के तहत बच्चे के अधिकारों पर फैसले के लिए विवाह साबित करना अनिवार्य है, भले ही उसे निरस्त क्यों ना करार गया हो. दरअसल कोर्ट के समक्ष इस मामले में एक व्यक्ति की दो पत्नियां थी. चूंकि यहां व्यक्ति की दूसरी शादी की सबूत मौजूद था, ऐसे में कोर्ट ने दूसरी विवाह को तो निरस्त करार दिया, लेकिन साथ ही कहा कि दूसरी पत्नी से जन्मी बच्ची को पिता की संपत्ति पर अधिकार होगा.
आज तक

Print This Post Print This Post
To toggle between English & Malayalam Press CTRL+g

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read More

Scroll to top