Flash News
ന്യൂയോര്‍ക്ക് നഗരത്തിലൂടെ ആടിപ്പാടി പ്രിയങ്ക ചോപ്ര   ****    യു.എസ്. പ്രസിഡന്റ് തിരഞ്ഞെടുപ്പില്‍ റഷ്യ ഇടപെട്ടിട്ടില്ലെന്ന് വ്ലാഡിമിര്‍ പുടിന്‍; പുടിനെ ന്യായീകരിച്ച് ട്രം‌പ്   ****    ലോക കപ്പ് ജേതാക്കള്‍ക്ക് ഫ്രാന്‍സില്‍ ആവേശോജ്വലമായ വരവേല്പ്   ****    ബിഷപ്പ് ഫ്രാങ്കോ മുളയ്ക്കലിന്റെ ദുഷ്‌ചെയ്തികളെക്കുറിച്ച് കര്‍ദ്ദിനാള്‍ ആലഞ്ചേരിക്ക് നേരത്തെ അറിയാമായിരുന്നുവെന്ന്; ബിഷപ്പ് പീഡിപ്പിച്ച കന്യാസ്ത്രീയുടെ സഹോദരന് അഞ്ചു കോടി രൂപ വാഗ്ദാനം; കന്യാസ്ത്രീയെ മദര്‍ ജനറല്‍ പദവി നല്‍കാം; ഇടനിലക്കാരന്‍ വഴി കേസ് ഒതുക്കിത്തീര്‍ക്കാന്‍ ശ്രമം   ****    നിപ്പ രോഗം ബാധിച്ചയാളെ ചികിത്സിച്ച് വൈറസ് ബാധയേറ്റ് മരണത്തിന് കീഴടങ്ങിയ നഴ്സ് ലിനിയുടെ ഭര്‍ത്താവിന് സര്‍ക്കാര്‍ ജോലി നല്‍കി   ****   

वैश्विक भूख में बढ़ोत्तरी, भारत में 23% आबादी प्रभावित: UN

December 15, 2017

hunger

एक दशक से अधिक समय तक निरंतर गिरावट के बाद वैश्विक भूख एक बार फिर से बढ़ रही है, जिस कारण वर्ष 2016 में 81.5 करोड़ (वैश्विक आबादी का 11 प्रतिशत) लोग प्रभावित हुए। 2015 में यह संख्या 777 करोड़ थी। हालांकि साल 2000 में 900 करोड़ की तुलना में यह काफी नीचे है।

रोम स्थित संयुक्त राष्ट्र खाद्य एजेंसियों ने यह जानकारी दी। विश्व खाद्य सुरक्षा और पोषण पर संयुक्त राष्ट्र की वार्षिक रिपोर्ट के एक नए संस्करण में खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ), कृषि विकास के लिए अंतर्राष्ट्रीय निधि (आईएफएडी) और विश्व खाद्य कार्यक्रम (डब्ल्यूएफपी) समेत अन्य संगठनों ने यह चेतावनी दी है।

एजेंसियों ने कहा, ‘कुपोषण के कई रूप दुनियाभर में लाखों लोगों के स्वास्थ्य के लिए खतरा बने हुए हैं।’ विश्व में खाद्य सुरक्षा और पोषण की स्थिति 2017 की रिपोर्ट के अनुसार, पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष 3.8 करोड़ की बढ़ोतरी हुई है। इसका सबसे बड़ा कारण हिंसक संघर्ष और जलवायु संबंधी झटके हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि पांच वर्ष से कम उम्र के 15.5 करोड़ बच्चे अविकसित हैं, जबकि 5.2 बच्चे लगातार कमजोर हो रहे हैं, मतलब उनका वजन उनकी लंबाई के हिसाब से बहुत कम है। रिपोर्ट में कहा गया है कि अनुमान के अनुसार, 4.10 करोड़ बच्चे अब अधिक वजन वाले हैं और महिलाओं में एनीमिया एवं वयस्कों में मोटापा भी चिंता का कारण है। रिपोर्ट में आगे कहा गया है, ‘ये प्रवृत्तियां न केवल संघर्ष और जलवायु परिवर्तन, बल्कि आहार की आदतों में भी भारी बदलाव के साथ-साथ आर्थिक मंदी का भी परिणाम है।’

आंकड़े बताते हैं कि भारत में ऐसे लोगों की कुल आबादी 19.07 करोड़ है जो कुल आबादी के मुकाबले 14.5 फीसदी है। डेटा के अनुसार भारत में 5 साल के नीचे के 38.4 फीसदी बच्चे अविकसित हैं। जबकि प्रजनन उम्र की 51.4 फीसदी महिलाएं एनीमिया की शिकायत से जूझ रहीं है। इस रिपोर्ट के अनुसार पोषण संबंधी अभाव मानसिक विकास, स्कूल प्रदर्शन और बौद्धिक क्षमता को प्रभावित कर सकता है।

चीन और श्रीलंका की तुलना में भारत में बच्चों की अविकसित दर ज्यादा है। श्रीलंका में 14.7 फीसदी और चीन में 9.4 फीसदी बच्चे अविकसित हैं। आंकड़े बताते हैं कि कुपोषण के कारण पैदा होने वाले छोटे कद के बच्चों की संख्या 2005 के 6.2 करोड़ के मुकाबले घटकर 2015 में 4.75 करोड़ हो गई। वहीं वजनी व्यस्कों की संख्या 2014 के 1.46 करोड़ से बढ़कर 2.98 करोड़ हो गई।

Print This Post Print This Post
To toggle between English & Malayalam Press CTRL+g

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read More

Scroll to top