Flash News

लोया मामला गंभीर, 2 फरवरी को अगली सुनवाई : SC

January 22, 2018 , सन्ध्या माथुर

supreme

नई दिल्ली। सर्वोच्च न्यायालय ने सोमवार को कहा कि सीबीआई की विशेष अदालत के न्यायाधीश बीएच लोया की संदिग्ध हालात में मौत पर उठा विवाद ‘गंभीर’ है और अदालत इस पर गौर करेगी कि नवंबर, 2014 में हुई उनकी मौत किन परिस्थितियों में हुई।

सर्वोच्च न्यायालय की प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि “मामला गंभीर है। हम सभी सामग्री का परीक्षण कर रहे हैं।” पीठ ने लोया की मौत से जुड़े सभी मामलों व मौत की परिस्थिति जन्य कारणों को अदालत के समक्ष प्रस्तुत करने का निर्देश दिया है।

दो फरवरी को अगली सुनवाई
शीर्ष अदालत की पीठ ने महाराष्ट्र की अलग-अलग अदालतों- बंबई उच्च न्यायालय व इसकी नागपुर पीठ में इस मामले से जुड़े लंबित दो याचिकाओं को भी खुद अपने पास मंगा लिया है। अदालत ने मामले की अगली सुनवाई की तारीख 2 फरवरी मुकर्रर की है।

SC में इस मामले से ही उपजा ‘जज विवाद’
इससे पहले प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा ने पहले यह मामला अरुण मिश्रा की अगुवाई वाली खंडपीठ को सौंपा था, जिसका चार वरिष्ठ न्यायाधीशों ने विरोध किया था। उनका कहना था कि प्रधान न्यायाधीश ने इस मामले को रफा-दफा करवाने की नीयत से ऐसा किया है। उन्होंने इस संबंध में दीपक मिश्रा को पत्र लिखा था।

बता दें कि पत्र के जवाब का एक महीना इंतजार करने के बाद चारों न्यायाधीशों ने मीडिया का सहारा लेते हुए कुछ गंभीर सवाल खड़े किए थे। अब मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा ने यह मामला खुद अपने हाथ में लिया है।

क्या है पूरा मामला
दरअसल, न्यायाधीश बीएच लोया सोहराबुद्दीन शेख, उसकी पत्नी कौसर बी और तुलसीराम प्रजापति की गुजरात में फर्जी मुठभेड़ में कराई गई हत्या के मामले की सुनवाई कर रहे थे। वह इस मामले के आरोपियों में से एक गुजरात के तत्कालीन गृह राज्यमंत्री अमित शाह को अदालत में पेश होने के लिए कई बार समन दे चुके थे। लेकिन शाह पेश नहीं हो रहे थे।

RSS कार्यकर्ता ने दी थी मौत की खबर
बताया जाता है कि अगली सुनवाई से एक रात पहले लोया अपने एक दोस्त की बेटी की शादी में शामिल होने नागपुर गए थे। वह एक रेस्टहाउस में ठहरे थे, जहां उनकी मौत हो गई। उनकी बहन के मुताबिक, 48 वर्षीय लोया की मौत की खबर और उनका सामान लेकर आरएसएस का एक कार्यकर्ता उनके घर गया था। उन्हें व उनके परिवार को फोन पर धमकियां भी मिल रही थीं।

Print This Post Print This Post
To toggle between English & Malayalam Press CTRL+g

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read More

Scroll to top