Flash News

सोनागाछी रेड लाइट एरिया में सेक्स वर्कर्स ने दुर्गा पूजा के लिए मिट्टी देने से किया इनकार

September 25, 2018

Durga_Puja_Sindur_Khela_1

कोलकाता : कोलकाता के रेड लाइट एरिया सोनागाछी के निवासियों ने दुर्गा पूजा के लिए अपने आंगन से मिट्टी दान करने का विरोध किया है। यह निर्णय सर्वसम्मति से लिया गया है। बता दें कि पिछले तीन साल से दुर्गापूजा के लिए यहां से मिट्टी देने से इनकार किया जाता रहा है। दरअसल, मान्यता के अनुसार एक वेश्यालय के आंगन से लाई गई मिट्टी को दुर्गा पूजा के लिए शुभ माना जाता है।

सेक्स वर्कर्स असोसिएशन दरबार समोनॉय कमिटी के मेंटर और सलाहकार सुश्री भारती डे के अनुसार यह निर्णय समाज की मुख्यधारा में सेक्स वर्कर्स की अस्वीकृति के विरोध में किया गया है। उन्होंने कहा कि सेक्स वर्कर्स को मुख्यधारा से न तो जुड़ने दिया जाता है और न ही सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है। ऐसे में सेक्स वर्कर्स को समाज से निकाले जाने के विरोध स्वरूप उनकी ओर से पूजा के लिए मिट्टी न देने का फैसला किया गया है।

पुराण विशेषज्ञ नृसिम्हा प्रसाद भदूरी के अनुसार, अनुष्ठानों के लिए दशा मृतिका (दस जगह की मिट्टी) की आवश्यकता होती है, जो कि 10 विभिन्न स्थानों से लाई गई मिट्टी का मिश्रण होता है। वेश्यालय के अलावा, पहाड़ की चोटी, नदी के दोनों किनारों, बैल के सींगों, हाथी के दांत, सुअर की ऐंड़ी, दीमक के ढेर, किसी महल के मुख्य द्वार, किसी चौराहे और किसी बलिभूमि से भी मिट्टी लाई जाती है।

हालांकि कई दुकानों में पैक की गई दशा मृतिका मिलती है, लेकिन इसकी प्रामाणिकता के बारे में गंभीर संदेह हैं। यहां तक कि दुकान मालिक भी अपनी मिट्टी की प्रामाणिकता का दावा नहीं कर सकते। भदूरी के अनुसार, 10 अलग-अलग स्थानों से मिट्टी का उपयोग करने की परंपरा वास्तव में पूजा में समाज के सभी क्षेत्रों के लोगों की भागीदारी का प्रतीक है। इस बिंदु पर सुश्री भारती डे जोरदार आपत्ति दर्ज कराते हुए कहती हैं, ‘हमें मुख्यधारा के समाज में हमेशा से बहुत बुरी तरह अलग रखा गया है। तो अब वे शर्मनाक रीति-रिवाज क्यों कर रहे हैं? हम पूजा के लिए चुटकी भर मिट्टी भी नहीं दान करेंगे।’

Print This Post Print This Post
To toggle between English & Malayalam Press CTRL+g

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read More

Scroll to top