Flash News
ഇരുമുടിക്കെട്ടിനോട് അനാദരവ് കാണിക്കുന്നവരാണ് പ്രശ്നക്കാര്‍; അവരെത്തുന്നത് മനഃപ്പൂര്‍‌വ്വം പ്രശ്നങ്ങളുണ്ടാക്കാനാണെന്ന് ദേവസ്വം ബോര്‍ഡ് പ്രസിഡന്റ്   ****    ബിജെപിയുടെ തന്ത്രം പിഴച്ചു; രാഷ്ട്രീയ നേട്ടത്തിന് കെ. സുരേന്ദ്രന്‍ ശബരിമലയില്‍ കാണിച്ചത് ആചാര ലംഘനം; ഇരുമുടിക്കെട്ട് സുരേന്ദ്രന്‍ തന്നെ താഴെയിടുന്ന ദൃശ്യങ്ങള്‍ പുറത്ത്   ****    രാഷ്ട്രീയ കലാപത്തിന് ഇരുമുടിക്കെട്ട് ഉപയോഗിച്ച കെ. സുരേന്ദ്രന്റെ ദുഷ്ടമനസ്സ് ജനം തിരിച്ചറിഞ്ഞുവെന്ന് തോമസ് ഐസക്   ****    പ്രതിപക്ഷ എംഎല്‍എമാര്‍ പമ്പയിലെത്തി; സുരക്ഷയുടെ പേരില്‍ പൊലീസ് നടത്തുന്ന നിയന്ത്രണങ്ങള്‍ അസൗകര്യങ്ങള്‍ മറച്ചുപിടിക്കാനെന്ന് എംഎല്‍എമാര്‍   ****    ശ്രീ സ്‌കൂള്‍ ഓഫ് ഡാന്‍സ് വിദ്യാര്‍ഥികള്‍ സാന്ത്വനത്തിനു 15,000 ഡോളര്‍ സംഭാവന നല്‍കി   ****   

#MeToo: उत्पीड़न के आरोपों पर क्या अकबर की सफाई ही काफी, खड़े हुए सवाल?

October 15, 2018

akbar_1539572234_618x347

#MeToo कैंपेन के तहत महिलाओं के यौन उत्पीड़न से जुड़े आरोपों का सामना कर रहे विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर ने इस्तीफा देने से इनकार कर दिया है. कई महिला पत्रकारों द्वारा उत्पीड़न के आरोपों के बाद अकबर पर इस्तीफे का दबाव था, रविवार को जैसे ही वो विदेश दौरे से लौटे तो उन पर सवालों की बौछार हुई. लेकिन अपने ऊपर लगे हर आरोपों को निराधार बताते हुए उन्होंने इस्तीफा देने से मना कर दिया. हालांकि जिन महिला पत्रकारों ने उन पर आरोप लगाया है वह अब भी अपने बयान पर कायम हैं.

दरअसल, देश में जब से #MeToo कैंपेन की शुरुआत हुई है तभी से ही कई तरह के मामले सामने आ रहे हैं. इसी दौरान करीब 11 महिला पत्रकारों ने एमजे अकबर पर उत्पीड़न करने का आरोप लगाया था. अकबर की सफाई के बाद पत्रकारों का कहना है कि वह अपने आरोपों पर कायम हैं.

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए कुछ महिला पत्रकारों ने अपने आरोपों को दोहराया है. इन आरोपों के बाद विपक्ष ने उन्हें घेरना शुरू किया और इस्तीफा मांगा. सफाई के बाद भी कांग्रेस ने उनपर निशाना साधा है.

कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने भी ट्वीट कर लिखा, क्या इस पर सफाई देना ही काफी है? 3 तलाक के लिए जेल और इन आरोपों के लिए कुछ भी नहीं, बेटी बचाओ से ज्यादा महत्वपूर्ण सरकार बचाओ. ये मन की नहीं बल्कि तन की बात है.

सिर्फ विपक्षी पार्टियां ही नहीं बल्कि सहयोगी नेताओं ने भी अकबर पर सवाल खड़े किए हैं. मोदी सरकार में ही मंत्री रामदास अठावले का कहना है कि जिस प्रकार के आरोप लगे हैं वह गंभीर हैं, इसलिए इस मामले की जांच होनी चाहिए.

विदेश दौरे से लौटे विदेश राज्यमंत्री ने रविवार को अपने ऊपर लगे आरोपों पर सफाई दी और सभी को बेबुनियाद बताया. इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि इस तरह के आरोपों को लगा, 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले उनकी छवि बिगाड़ने की कोशिश की जा रही है. अकबर ने कहा कि वह अपने वकीलों से बात कर सभी आरोप लगाने वाली महिलाओं पर कानूनी कार्रवाई करेंगे.

पूरा मामला क्या है?

दरअसल, विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर कई अखबारों के संपादक रहे हैं. उनके ऊपर अब तक 11 महिला पत्रकारों ने #MeToo कैंपेन के तहत आरोप लगाए हैं. अकबर पर पहला आरोप प्रिया रमानी नाम की वरिष्ठ पत्रकार ने लगाया था जिसमें उन्होंने एक होटल के कमरे में इंटरव्यू के दौरान की अपनी कहानी बयां की थी.

रमानी के आरोपों के बाद अकबर के खिलाफ आरोपों की बाढ़ आ गई और एक के बाद एक कई अन्य महिला पत्रकारों ने उन पर संगीन आरोप लगा रही हैं. जिसके कारण सोशल मीडिया और विपक्ष की ओर से लगातार उनके इस्तीफे की मांग उठ रही है.

Print This Post Print This Post
To toggle between English & Malayalam Press CTRL+g

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read More

Scroll to top