Flash News

बनेगा इतिहास? भारी सुरक्षा में सबरीमाला मंदिर के पास पहुंचीं 2 महिलाएं, हंगामा जारी

October 19, 2018

sab_1539918321_618x347

तिरुवनंतपुरम/नई दिल्ली : केरल के प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर के कपाट को खुले आज तीन दिन हो गए हैं. लेकिन अभी भी मंदिर के दर पर महिलाओं का प्रवेश नहीं हो पाया है. पिछले तीन दिनों से ही हिंदू संगठनों द्वारा मंदिर में महिलाओं को प्रवेश करने से रोका जा रहा है. इस बीच मंदिर के आस-पास लगातार हिंसा का माहौल बना हुआ है.

शुक्रवार को भी मंदिर के बाहर नारेबाजी और हंगामा हो रहा है. भारी सुरक्षा के बीच दो महिलाएं मंदिर की ओर बढ़ रही हैं. उन्हें रोकने के लिए प्रदर्शनकारी नारेबाजी और हंगामा कर रहे हैं. दोनों महिलाएं मंदिर से सिर्फ 2 किलोमीटर की दूरी पर ही हैं. इनमें एक पत्रकार भी शामिल है. प्रदर्शनकारी महिला पत्रकारों को मंदिर की ओर बढ़ने से रोक रहे हैं.

कौन है महिला पत्रकार?

मंदिर की ओर बढ़ने वाली महिला पत्रकार हैदराबाद से है, शुक्रवार को सबरीमला पहाड़ी की चढ़ाई शुरू कर दी. विदेशी मीडिया संगठन के लिए काम करने वाली दिल्ली की पत्रकार के मंदिर में दर्शन करने में विफल रहने के एक दिन बाद एक अन्य महिला ने चढ़ाई शुरू की है.

पुलिस ने महिला को सुरक्षा मुहैया कराई है, महिला ने अपने पेशेवर काम के सिलसिले में सबरीमला सन्निधानम जाने के लिए सुरक्षा देने का अनुरोध किया था.

महिला की उम्र लगभग 25 वर्ष है और अगर वह सबरीमला पहाड़ी पर चढ़ जाती है तो वह उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद सबरीमला के भगवान अयप्पा मंदिर में जाने वाली माहवारी उम्र की पहली महिला होगी.

गुरुवार को भी रहा तनाव

भगवान अयप्पा मंदिर के पांच दिनी तीर्थयात्रा के दूसरे दिन गुरुवार को भी केरल में तनाव बना रहा. राज्य में कथित तौर पर पुलिस द्वारा प्रदर्शनकारियों पर हमले के खिलाफ बंद रखा गया है.

एक तरफ राज्य सरकार सर्वोच्च न्यायालय के आदेश का पालन कराने का प्रयास कर रही है, तो दूसरी ओर हिंदूवादी संगठनों ने परंपरा की दुहाई देते हुए महिलाओं से मंदिर में प्रवेश नहीं करने का आग्रह किया है.

पुजारियों की अपील- आस्था का हो सम्मान

सबरीमाला के पुजारी परिवार के एक वरिष्ठ सदस्य ने 10 से 50 साल आयुवर्ग की महिलाओं के मंदिर में प्रवेश पर रोक की परंपरा का सम्मान करने व महिलाओं से अयप्पा के मंदिर में न जाने का आग्रह किया. महिलाओं के प्रवेश पर रोक इसलिए है कि माना जाता है कि अयप्पा ‘ब्रह्मचारी’ थे.

आरएसएस और भाजपा से जुड़े प्रदर्शनकारियों के बुधवार को हमलों और हिंसा के बीच कुछ महिला पत्रकारों को कवरेज जारी रखने से रोका गया. ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ की भारत में रिपोर्टर सुहासिनी राज अपने सहकर्मी के साथ गुरुवार की सुबह पंबा द्वार से अयप्पा मंदिर तक जाने में कामयाब रहीं, लेकिन उन्हें बीच में नाराज भक्तों ने रोक दिया. कुछ लोग उन पर पत्थर बरसाने लगे.

पुनर्विचार याचिका डाल सकता है बोर्ड

दिन की समाप्ति पर, त्रावणकोर देवासम बोर्ड (टीडीबी) के अध्यक्ष ए. पद्मकुमार ने मीडिया से कहा कि वे इस मामले का हल निकालने के लिए किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार हैं.

पद्मकुमार ने कहा, “हम एक बैठक करने जा रहे हैं और हम यह पूछना चाहते हैं कि अगर हम सर्वोच्च न्यायायल में इस मामले में पुनर्विचार याचिका डालेंगे तो क्या प्रदर्शनकारी पीछे हट जाएंगे?”

भगवान अयप्पा का मंदिर बुधवार को शाम पांच बजे मासिक पूजा-अर्चना के लिए खोला गया. सर्वोच्च न्यायालय के 28 सितंबर के फैसले के बाद बुधवार को पहली बार मंदिर खोला गया. परंपरा के अनुसार, मंदिर को मलयालम माह की शुरुआत में पांच दिनों तक खोला जाता है. मंदिर अब 22 अक्टूबर तक खुला रहेगा.


Like our page https://www.facebook.com/MalayalamDailyNews/ and get latest news update from USA, India and around the world. Stay updated with latest News in Malayalam, English and Hindi.

Print This Post Print This Post
To toggle between English & Malayalam Press CTRL+g

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read More

Scroll to top