यूं यूरोप को तबाह करने का प्लान बना रहा ISIS

i

आतंकी संगठनों की कोशिश अफ्रीका से महा पलायन कराना और जिहादियों को यूरोप भेजना है

मध्य पूर्व से खदेड़े जाने के बाद ISIS आतंकी अब अफ्रीका को अपना गढ़ बनाने की योजना बना रहे हैं। डेलीमेल ने अपनी एक रिपोर्ट में संयुक्त राष्ट्र के एक वरिष्ठ अधिकारी के हवाले से बताया है कि ISIS के निशाने पर अब यूरोप है जहां वह अस्थिरता और अशांति पैदा करना चाहता है। अधिकारी ने चेतावनी दी है कि ISIS अफ्रीका में बड़े पैमाने पर पलायन की योजना बना रहा हैं ताकि जिहादियों को भीड़ के साथ यूरोप भेजा जा सके। संयुक्त राष्ट्र के विश्व खाद्य कार्यक्रम के प्रमुख और साउथ कैरोलिना के पूर्व रिपब्लिकन गवर्नर डेविड बेस्ली के मुताबिक अफ्रीका से होने वाला पलायन सीरिया से हुए पलायन से कई गुना ज्यादा होगा और यूरोप के लिए इसके नतीजे काफी खतरनाक होंगे।

बेस्ली के मुताबिक हाल के सालों में मध्य पूर्व से भागे हुए ISIS के आतंकी अफ्रीका में बोको हराम और अलकायदा जैसे आतंकी संगठनों के साथ साझीदारी कर रहे हैं। उन्होंने चेताया है कि IS के आतंकी दूसरे आतंकियों के साथ मिलकर अफ्रीका में चरमपंथ और आतंकवाद को हवा देकर यूरोप के लिए पलायन की स्थिति तैयार कर रहे हैं। ISIS अफ्रीका के साहेल क्षेत्र में अपनी जड़े जमाने की कोशिश में है। साहेल क्षेत्र पश्चिम में अटलांटिक से लेकर पूरब में लाल सागर के बीच 3,360 मील के क्षेत्र में फैला हुआ है और करीब 600 मील की चौड़ाई में है।

डेविड बेस्ली ने चेतावनी दी है कि अफ्रीका के साहेल क्षेत्र में ISIS और दूसरे आतंकी संगठन इलाके के खाद्य संकट का फायदा उठाते हुए यहां से करोड़ों लोगों को यूरोप में पलायन के लिए मजबूर कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि यह पलायन युद्ध झेल रहे सीरिया से 2015 में हुए पलायन से कई गुना ज्यादा तादाद में होगा। अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के दौरान डॉनल्ड ट्रंप का समर्थन करने वाले बेस्ली ब्रसेल्स में सीरिया की स्थिति पर आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे।

बेस्ली ने कहा, ‘यूरोपीय लोगों के लिए मैं यही कहना चाहता हूं कि अगर आप सोचते हैं कि 2 करोड़ की आबादी वाले सीरिया जैसे देश से हुए पलायन से आपको समस्या हो रही है क्योकि इससे संघर्ष और अस्थिरता का खतरा बढ़ रहा है तो तब क्या होगा जब 50 करोड़ आबादी वाले विशाल साहेल क्षेत्र से पलायन होगा।’ बता दें कि अफ्रीका के साहेल क्षेत्र में सेनेगल, दक्षिणी मारिटानिया, सेन्ट्रल माली, उत्तरी बुर्किना फासो, अल्जीरिया का दक्षिणी हिस्सा, नाइजर और नाइजीरिया का उत्तरी हिस्सा शामिल है। इसके अलावा सेन्ट्रल चाड, सेन्ट्रल और सदर्न सूडान, साउथ सूडान का उत्तरी हिस्सा, कैमरून, सेन्ट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक और इथियोपिया का उत्तरी हिस्सा भी साहेल क्षेत्र में आता है।

Print Friendly, PDF & Email

Related posts

Leave a Comment