me="viewport" content="width=device-width, initial-scale=1.0" />
Flash News
आने वाले समय में, हम रोबोट के साथ प्रतिस्पर्धा करेंगे, छात्र अनुसंधान और नवाचार की तैयारी करेंगे – मनीष सिसोदिया   ****    पिता की दूसरी शादी की वैधता को बेटी दे सकती है अदालत में चुनौती : हाईकोर्ट   ****    आज का राशिफल 27 अगस्त   ****    अफरीदी पर पाकिस्तानी हिंदू क्रिकेटर दानिश कनेरिया का बड़ा आरोप, कहा- शुरू से रहे खिलाफ   ****    बलबीर सिंह सीनियर अभी भी वेंटीलेटर पर, हालत स्थिर   ****    2013 चैंपियंस ट्रोफी में एमएस धोनी ने मेरा आत्मविश्वास बढ़ाया: रविचंद्रन अश्विन   ****    सेब स्‍वास्‍थ्‍य के लिए किसी उपहार से कम नहीं, बस समस्‍या के अनुसार इसे खाने का तरीका अलग   ****    डेंगू आज के समय में भी गंभीर बीमारी है, हर साल होती हैं करोड़ों मौत   ****    डिप्‍थीरिया की समस्‍या से छुटकारा पाने के घरेलू उपाय   ****    16 मई शनिवार आज का राशिफल   ****    7 मई गुरुवार आज का राशिफल   ****    वायरस या बैक्टीरिया को शरीर में फैलने से इस तरह रोकती हैं कोशिकाएं   ****   

डोनाल्ड ट्रंप बोले- ट्विटर की वजह से ही बन पाया अमेरिका का राष्ट्रपति

March 18, 2017

trump_760_1489820237_749x421अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का कहना है कि ट्विटर और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ने उन्हें मीडिया से मुकाबला करने में मदद की, जिसकी वजह से वह राष्ट्रपति पद पर पहुंच पाए.

दरअसल डोनाल्ड ट्रंप ने यह जवाब उस सवाल पर दिया, जिसमें उनसे पूछा गया था कि क्या उन्हें अपने ट्वीट को लेकर कभी कोई खेद हुआ है. जर्मनी के एक रिपोर्टर ने ट्रंप से पूछा, मेरा सवाल है कि आप समय-समय पर जो ट्वीट करते हैं, क्या आपको कभी उन्हें लेकर खेद हुआ है.

ट्रंप ने अमेरिकी यात्रा पर आईं जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल के साथ व्हाइट हाउस में एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘मैं संभवत: आज यहां नहीं होता. हमारे पास लोगों का एक शानदार समूह है, जो बात सुनता है और जब मीडिया सच नहीं बताता तो मैं उससे मुकाबला कर सकता हूं, इसलिए मुझे यह पसंद है.’

मर्केल के साथ मंच पर मौजूद ट्रंप ने फोन टैपिंग से जुड़े मुद्दे पर पूछे गए सवाल के जवाब में कहा कि उनके और जर्मन चांसलर के बीच ओबामा प्रशासन से जुड़ी कुछ बातें शायद समान हैं. हालांकि ट्रंप जब फोन टैपिंग का जिक्र कर रह थे तो मर्केल चुप ही रहीं.

बता दें कि मीडिया रिपोर्ट्स के मतुाबिक, ओबामा प्रशासन के दौरान अमरीकी खुफिया एजेंसियों ने कथित तौर पर जर्मन चांसलर मर्केल के फोन की नजर रखी थी. इस खबर के बाहर आने पर अमरीका को खासी शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा था.

आज तक के सौजन्य से


Like our page https://www.facebook.com/MalayalamDailyNews/ and get latest news update from USA, India and around the world. Stay updated with latest News in Malayalam, English and Hindi.

Print This Post Print This Post
To toggle between English & Malayalam Press CTRL+g

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read More

Scroll to top