दिल के लिए हेल्दी है चॉकलेट

chocolate

आजकल खुशियों के मौके पर मिठाई के बजाय चॉकलेट गिफ्ट करने का ट्रेंड बढ़ता जा रहा है। कपल्स भी अपने प्यार का इजहार करने के लिए एक दूसरे को चॉकलेट देने लगे हैं। मगर आपको जानकर खुशी होगी कि मिठाई के बजाय चॉकलेट खाने का शौक आपकी सेहत के लिए काफी फायदेमंद हो सकता है। यह खुलासा हाल ही में हुई एक स्टडी में हुआ है।

बीमारियों से बचाती है चॉकलेट
चॉकलेट से न सिर्फ ब्रेन पावर बढ़ती है, बल्कि हृदय रोग से भी बचाव होता है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक चॉकलेट में कुछ ऐसे न्यूट्रिशंस और ऐंटिऑक्सिडेंट्स पाए जाते हैं जो बीमारियों से रक्षा करते हैं। वहीं दुनियाभर में बढ़ रही खतरनाक बीमारी डायबीटीज का खतरा भी मिठाइयों की अपेक्षा चॉकलेट खाने से कम होता है।

दिल की बीमारियों से बचाव
एक दूसरी रिसर्च में यह खुलासा हुआ है जो व्यक्ति नियमित अंतराल में चॉकलेट का सेवन करते हैं, उनमें दिल की बीमारियां कम होती हैं। हालांकि जो हार्ट की बीमारियों से पीड़ित हैं, उनके लिए भी चॉकलेट लाभदायक साबित हो सकती है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक अगर आप हर हफ्ते दो चॉकलेट खाते हैं, तो इससे धमनियों में कैलिफाइड प्लैक का जोखिम 32 प्रतिशत तक कम हो जाता है। वहीं हफ्ते में 5 बार चॉकलेट खाने से हार्ट अटैक का खतरा 57 प्रतिशत तक कम हो जाता है।

ब्लड प्रेशर करे बेहतर
चॉकलेट कार्डियोवैस्क्युलर बेहतर करने में भी सहायक होती है। हालांकि यदि आपको पहले से ब्लड प्रेशर की समस्या है, तो यह ज्यादा फायदा नहीं करेगा। दरअसल चॉकलेट में फ्लैवेनोल होता है, जो एंडोथैलियम से नाइट्रिक ऑक्साइड निकालता है। नाइट्रिक ऑक्साइड धमनियों तक शांत रहने का संदेश पहुंचाता है, जिससे ब्लड का प्रवाह अच्छा होता है और बीपी कंट्रोल में आ जाता है।

कलेस्ट्रॉल को बैलेंस रखे
जब कभी तबियत खराब होने पर डॉक्टर के पास जाते हैं, तो वे कलेस्ट्रॉल बैलेंस रखने की सलाह देते हैं। ऐसे में चॉकलेट ये बैलेंस कर सकती है। इसमें मौजूद कोकोआ में पावरफुल ऐंटिऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो उसे बैलेंस करते हैं। स्टडी में भी यह साबित हो चुकी है।

न्यूट्रिशंस भी होता है
दूध की बजाय आप डार्क चॉकलेट खाकर ज्यादा न्यूट्रिशंस प्राप्त कर सकते हैं। एक स्टडी के अनुसार 100 ग्राम की डार्क चॉकलेट में 70 से 85 प्रतिशत कोकोआ और 11 ग्राम तक फाइबर पाया जाता है। ये मात्रा हमारी कॉपर और मैगनीज की जरूरत को पूरा करती है।

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Comment