मिसाइल बेस बढ़ा रहा उ. कोरिया, अमेरिका पर नजरें

roket

सोल : उत्तर कोरिया फिर से अपने मिसाइल बेस के बढ़ा रहा है। माना जा रहा है कि इसकी क्षमता अमेरिका तक पहुंचने की होगी। उत्तर कोरिया के मिसाइल प्रोग्राम के दो एक्सपर्ट ने गुरुवार को सैटेलाइट इमेज के आधार पर की गई रिसर्च के हवाले से कही है। बता दें कि अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच शांति समझौता हो गया था, लेकिन उसके बाद भी कई बार इस तरह की खबरें आ चुकी हैं कि उत्तर कोरिया फिर से अपना मिसाइल कार्यक्रम बढ़ा रहा है।

न्य यॉर्क टाइम्स में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, उत्तर कोरिया और चीन बॉर्डर के पास येंग्जियो-डॉन्ग मिसाइल बेस में बढ़ रही गतिविधि और इससे 7 मील दूर संदिग्ध मिसाइल ऐक्सपेंशन इस तरफ ताजा इशारा है। इससे संकेत मिल रहा है कि उत्तर कोरिया अपनी मिसाइल क्षमता को बढ़ाने की कोशिश कर रहा है। कैलिफोर्निया के मिडलबरी इंस्टिट्यूट ऑफ इंटरनैशनल स्टडीज के जेफरी लुइस और डेविड स्कैमरलर ने यह बात कही है। अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की तरफ से लगातार उत्तर कोरिया की तरफ से डिन्यूक्लियराइजेशन की बात कही जा रही है।

लुइस और स्कैमरलर ने कहा कि वे दोनों अब तक इस नतीजे पर नहीं पहुंच पाए हैं कि उत्तर कोरिया के ये प्रॉजेक्ट अलग-अलग हैं या एक ही प्रॉजेक्ट का हिस्सा हैं। उन्होंने कहा, ‘यह बेस उत्तर कोरया के इंटीरियर में है और चीनी बॉर्डर का बैकअप इसे है। यह लोकेशन ही है, जिसकी वजह से यह शक पैदा होता है।’

पेंटागन ने एक बयान में कहा, ‘‘हम उत्तर कोरिया पर करीब से नजर रखते हैं, लेकिन हम खुफिया जानकारी पर चर्चा नहीं कर सकते।’’ ट्रंप ने शनिवार को कहा था कि वह 2019 की शुरुआत में किम के साथ दूसरे शिखर सम्मेलन की उम्मीद करते हैं। अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन ने गुरुवार को कहा था कि ट्रंप का मानना है कि किम ने सिंगापुर शिखर सम्मेलन में किए गए वादों को नहीं निभाया है।

 

Like our page https://www.facebook.com/MalayalamDailyNews/ and get latest news update from USA, India and around the world. Stay updated with latest News in Malayalam, English and Hindi.

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Comment