चंडीगढ़ के भगत सिंह एयरपोर्ट के साथ लिखा जाएगा तीन शहरों का नाम

चंडीगढ़: चंडीगढ़ के शहीद भगत सिंह इंटरनेशनल एयरपोर्ट के नाम के साथ अब मोहाली, चंडीगढ़ और पंचकूला तीनों शहरों का नाम जुड़ेगा। छोटे स्वरूप में इसे एमसीपी लिखा जाएगा। एम का मतलब मोहाली, सी का मतलब चंडीगढ़ और पी का मतलब पंचकूला। इस तरह अब इसका नया नाम शहीद भगत सिंह इंटरनेशनल एयरपोर्ट एमसीपी होगा।  पंजाब व हरियाणा सरकारों के बीच काफी जिद्दोजहद के बाद इस पर सहमति बनी है। केंद्र सरकार की ओर से इस प्रस्ताव को अगर मंजूरी प्रदान की जाती है तो पूरे देश में किसी एयरपोर्ट के नाम को लेकर यह अनोखा और पहला मामला होगा।

हरियाणा और पंजाब ने बनाई सहमति, मंजूरी के लिए केंद्र को जाएगा प्रस्ताव
पंजाब और हरियाणा सरकारों के बीच तीन दिन पहले चंडीगढ़ एयरपोर्ट का नाम शहीद भगत सिंह के नाम पर रखने को लेकर सहमति बन चुकी है। हालांकि इस बारे में दोनों राज्य पहले भी सहमत थे, लेकिन अभी तक एयरपोर्ट का नामकरण नहीं हो पाया था। पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान और हरियाणा के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के बीच हुई बैठक में एयरपोर्ट का नाम शहीद भगत सिंह को समर्पित करने का फैसला लिया गया। दोनों राज्यों के बीच जब एयरपोर्ट के नाम के साथ शहर का नाम लिखने को लेकर बात आई तो इस मुद्दे पर काफी देर तक चर्चा होती रही।

केंद्र सरकार की मंजूरी मिली तो देश भर में ऐसा पहला अनोखा मामला होगा
चंडीगढ़ के इस एयरपोर्ट के निर्माण में पंजाब सरकार, हरियाणा सरकार और केंद्रशासित राज्य चंडीगढ़ का बराबर का योगदान है। तीनों राज्य इस बात पर अड़े हुए थे कि एयरपोर्ट के साथ उनके शहरों के नाम लिखे जाएं, लेकिन किसी एक नाम पर सहमति नहीं बन पा रही थी। पंजाब सरकार के साथ हुई बैठक में जब हरियाणा के उपमुख्‍यमंत्री दुष्यंत चौटाला के सामने यह प्रस्ताव आया कि एयरपोर्ट के साथ मोहाली और चंडीगढ़ का नाम लिखा जाना चाहिए तो दुष्यंत चौटाला ने इसका प्रतिवाद करते हुए कहा कि एयरपोर्ट के निर्माण में हरियाणा का पूरा योगदान है। इसलिए इसमें पंचकूला को भी शामिल किया जाना चाहिए।

दोनों राज्यों की इस बैठक में काफी देर तक इस बात पर माथापच्ची चलती रही कि आखिर तीनों राज्यों को एयरपोर्ट के नाम के साथ कैसे प्रतिनिधित्व दिया जाए। आखिर में सहमति बनी कि एयरपोर्ट के नाम के साथ एमसीपी लिखना ठीक रहेगा। इससे पंजाब, चंडीगढ़ और हरियाणा तीनों राज्यों का प्रतिनिधित्व हो सकेगा। अब यह प्रस्ताव केंद्रीय नागर विमानन मंत्रालय को जाएगा। इसी मंत्रालय ने हरियाणा और पंजाब को एयरपोर्ट का नामकरण करने और उसके साथ शहर का नाम फाइनल करने के निर्देश दिए थे। अब इस प्रस्ताव को केंद्र सरकार किस तरह से लेती है, यह देखने वाली बात होगी।

Source : इनख़बर
Print Friendly, PDF & Email

Leave a Comment